SC ने चुनावी बॉन्ड पर रोक लगाने से किया इंकार, लेकिन इसका ब्यौरा चुनाव आयोग को देने को कहा

सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक आदेश में कहा है कि अब राजनीतिक दलों को चंदा देने से संबंधित चुनावी बॉन्ड पर रोक नहीं लगायी जायेगी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ऐसे सभी दल, जिनको चुनावी बॉन्ड के जरिए चंदा मिलेगा, उसकी जानकारी सील लिफाफे में चुनाव आयोग को दी जाएगी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि सभी राजनीतिक दल चुनावी बॉन्ड के जरिये मिली रकम की जानकारी सील कवर में चुनाव आयोग के साथ साझा करें।

सुप्रीम कोर्ट ने जानकारी साझा करने के लिए 30 मई की समय-सीमा निर्धारित की है और कहा है कि पार्टियां प्रत्येक दानदाता का ब्योरा सौंपे। चुनाव आयोग इसे सेफ कस्टडी में रखेगा। दूसरी तरफ, सुप्रीम कोर्ट मामले की विस्तृत सुनवाई की तारीख तय करेगा। आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने कोर्ट से कहा था कि वह चुनाव प्रक्रिया के दौरान चुनावी बॉन्ड के मुद्दे पर आदेश पारित न करे।

गौरतलब है कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गयी थी कि चुनाव बंद से सम्बंधित सभी जानकारी उजागर की जाए यह चुनाव बांड को निरस्त किया जाए। लोकसभा चुनाव का पहला चरण समाप्त हो चुका है। सभी पार्टियाँ अब अगले चरण के चुनाव के लिए प्रचार जोर शोर से कर रहीं हैं। लोकसभा चुनाव के नतीजे 23 मई को आएंगे।

x

Check Also

तनुश्री दत्ता के बाद कंगना रनौत की बहन ने अजय देवगन को आलोक नाथ के साथ काम करने को लेकर सुनाई खरी खोटी

🔊 Listen to this तनुश्री दत्ता द्वारा आने वाली फिल्म ‘दे दे प्यार दे’ में बलात्कार के आरोपी आलोक नाथ ...

error: Dont Copy !!