कुंभ 2019: जानिए क्यों है खास

दुनिया का सबसे बड़ा संगम कहे जाने कुंभ का आयोजन प्रयागराज में अपने अंतिम चरण में हैं.विश्व स्तर पर इसे ऐतिहासिक बनाने के लिए केंद्र की मोदी सरकार के साथ उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने भी कमर कस ली है.प्रदेश सरकार ने चलो कुंभ चलें स्लोगन के साथ कुंभ में हर खासो-आम को कुंभ का भागीदार बनने का आग्रह किया है.

राज्य सरकार के प्रवक्ता ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कहा कि प्रयागराज ‘कुम्भ 2019’ को ऐतिहासिक बनाने के लिए देश के हर गांव और विश्व के हर देश की भागीदारी सुनिश्चित की जा रही है.इसके साथ ही उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रमों एवं विदेश यात्राओं के द्वारा विदेश के राष्ट्राध्यक्षों के साथ आम जनता को भी कुम्भ 2019 का निमंत्रण दे रहे हैं.

बता दें कि गंगा, यमुना और सरस्वती के संगम की पावन भूमि प्रयागराज में 12 सालों में एक बार होने वाले महाकुंभ की शुरूआत 15 जनवरी से होगी..चार फरवरी 2019 तक चलने वाले कुंभ मेले में देश के 6 लाख गांवों और विश्व स्तर पर 192 देशों के अतिथियों और श्रद्धालुओं की व्यवस्था की गई है.आने वाले यात्री स्नान के साथ वें पहली बार अक्षयवट और सरस्वती कूप के दर्शन करेंगे…यूनेस्को भी कुंभ के विश्व स्तर पर महत्व को देखते हुए इस मेले  को मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत घोषित कर चुका है.

 

 

 

x

Check Also

सीएम योगी: प्रदेश में खुलेंगे 1000 गायों की क्षमता वाले गोश्राय

🔊 Listen to this गोवंश के कारण दिन प्रतिदिन हो रहे फसलों के नुकसान को रोकने के लिए उत्तर प्रदेश ...

error: Dont Copy !!