मेघालय: ‘बादलों के घर’ में प्रकृति का खूबसूरत नज़ारा

भारत के उत्तर पूर्व में स्थित राज्य मेघालय को “मेघों का घर” कहा जाता है। इसीलिए इस राज्य का नाम मेघालय पड़ा, जिसका अर्थ “बादलों का घर” होता है। मेघालय पूर्वी हिमालय में खासी और गारो हिल्स में पाइन कवर की गोद में छिपा हुआ एक रत्न है। इसकी राजधानी शिलॉन्ग है। उत्तर पूर्वी भारत के सबसे सुरम्य राज्यों में से एक मेघालय अपने सीढ़ीदार ढलान, झरने, रहस्यमय गुफाएँ, घने जंगल और जगमगाती झीलें और नदियाँ; मेघालय ट्रेकर्स, कैवर्स और प्रकृति के प्रति उत्साही लोगों के लिए भारत में एक आदर्श छुट्टी बिताने के लिए अपने आप में स्वर्ग जैसी जगह है।

मेघालय में आप मानव निर्मित जीवित जड़ो का पुल पाएंगे। यह बड़े बड़े होते हैं। यह बनाए नहीं जाते है बल्कि खुद उगते हुए बड़े होते हैं। मेघालय में खासी जनजाति के लोग इन पुलों का विकास युगों से करते आ रहे हैं, जो कि रबड़ के पेड़ों की जड़ों के बीच की खोखली नट ट्रंक पर बनाकर उन्हें नदियों और नदियों के ऊपर चलाते हैं। जड़ें 10-15 साल की अवधि में परिपक्व होती हैं और प्रत्येक गुजरते साल के साथ मजबूती हासिल करती जाती हैं। पूरी तरह से परिपक्व पुल दर्जनों लोगों का भार उठा सकता है। चेरापूंजी में ‘डबल डेकर लिविंग रूट ब्रिज’ एक ऐसा कलात्मक वैभव है, जो 200 वर्षों से अधिक समय से मजबूत है।

मेघालय में स्थित कई खौफ और प्रेरणादायक गुफाएं मेघालय में एक अन्य पर्यटन का आकर्षण है। सैकड़ों वर्षों में बने स्टैलेक्टाइट्स और स्टैलेग्मिट्स की प्रभावशाली आकृतियाँ आपको मंत्रमुग्ध कर देती है। आपको यह जानकर भी हैरानी होगी कि भारत का सबसे साफ-सुथरा गाँव ‘मावलिनॉन्ग’ भी इस खूबसूरत राज्य का एक हिस्सा है। प्रकृति के कुछ बेहतरीन और अविश्वसनीय नजारों को देखने के लिए, मानव निर्मित कलात्मक भव्यता और एक देहाती गाँव के जीवन का अनुभव, स्वादिष्ट स्थानीय भोजन के लिए मेघालय जैसी जगह एक बार जरूर घूमनी चाहिए।

मेघालय की ऑफबीट खूबसूरती को देखने के लिए आप मावलेनगोट की सैर का प्लान बना सकते हैं। यह एक खूबसूरत स्थल है जो शिलांग से लगभग 42 कि.मी की दूरी पर स्थित है। यह एक खूबसूरत गांव है जो हरी-भरी पहाड़ियों और चाय के बागानों के साथ बसा है। यहां का माहौल बेहद शांत है, जहां आप अपार मानसिक और आत्मिक शांति का अनुभव कर सकते हैं। एक सुकून भरा समय बिताने के लिए यहां घूमा जा सकता हैं। यहां का ग्रामीण काफी मित्र स्वभाव के हैं। आप यहां के स्थानीय व्यंजनों को भी चख सकते हैं। यह स्थल प्रकृति के किसी तोहफे समान प्रतीत होता है। एक रिफ्रेशिंग यात्रा के लिए आप यहां आ सकते हैं।

x

Check Also

जानिए क्यों है? आकर्षण का शहर सोनभद्र

🔊 Listen to this वैसे तो उत्तर प्रदेश के हर शहर का अपना अलग ही इतिहास है. ये शहर घूमने ...

error: Dont Copy !!