जानिए वरुण गांधी का वह कौन सा बयान था जिसके कारण उन्हें जेल जाना पड़ा था?

अगर देश में गाँधी परिवार की बात आती है हमें केवल एक नाम याद आता है सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी का, लेकिन इस गांधी परिवार में एक और परिवार है जो राजनीति में खासा सक्रिय रहता है। वो परिवार है मेनका गाँधी का, मेनका के बेटे वरुण गाँधी भी चुनाव में सक्रिय रहते हैं। गांधी परिवार से होने के बावजूद भी यह परिवार कांग्रेस के विरोध में रहता है। इस बार के लोकसभा चुनाव में इस बार वरुण गाँधी सुल्तानपुर के बजाय पीलीभीत से चुनाव लड़ रहें हैं। आपको बता दें कि पीलीभीत से उनकी माँ मेनका गाँधी ने पिछला लोकसभा चुनाव लड़ा था। इस बार मेनका गांधी सुल्तानपुर से चुनाव लड़ रहीं है। भाजपा ने इस लोकसभा चुनाव में माँ और बेटे की सीट अदला बदली कर दी है।

वरुण गांधी ने अभी अपने एक लेटेस्ट इंटरव्यू में कहा है कि यह पार्टी का फैसला था और पार्टी का फैसला व्यक्तिगत हितों के ऊपर होता है। वरुण गाँधी ने अपने ऊपर लगे एक आरोप का भी जवाब दिया जिसके कारण उन्हें जेल की हवा भी खानी पड़ी थी। आपको बता दें कि एक चुनाव प्रचार के दौरान वरुण गाँधी ने विपक्षी उम्मीदवार पर हमला बोलते हुए कहा था कि वोटकटुयों को वोट न दे। उनके इस बयान को बाद में उनके भाषण के सात दिन बाद गलत दिखाया गया। मीडिया में दिखाई गयी वीडियो क्लिप में वरुण गाँधी को यह कहते हुए दिखाया गया कि कटुयों को वोट न दें। उनके इस बयान को एक विशेष धर्म के खिलाफ लिया गयाऔर इसे मुसलमानों के खिलाफ बताया गया।

इस कारण उन्हें जेल भी जाना पड़ा। लेकिन जब जांच हुई तो पता चला कि वीडियो में उनकी आवाज़ को एडिट किया गया था और वोटकटुयों की जगह कटुओं कर दिया गया। जब जांच हुई तो पता चला कि वीडियो फेक थी और इसके एवज़ में उत्तर प्रदेश सरकार को वरुण गाँधी से माफ़ी भी मांगनी पड़ी थी।

x

Check Also

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान BJP सांसद जी वी एल नरसिम्हा राव पर फेंका गया जूता

🔊 Listen to this भारतीय जनता पार्टी ने जमीनी स्तर के कार्यकर्ताओं के विशाल समर्थन के लिए ‘मेरा बूथ, सबसे ...

error: Dont Copy !!