जानिए ऐसे नेताओं के बारे में जिन पर है आपराधिक केस, फिर भी लड़ रहें हैं चुनाव

2019 के लोकसभा चुनाव में कुछ ऐसे भी उम्मीदवार हैं जिनपे बहुत ही संगीन आरोप है, फिर भी पार्टियां उन्हें चुनाव में उतार रही हैं। सोचने वाली बात यह है कि जब एक नेता ही क्रिमिनल होगा तो कैसे हमारी जनता सुरक्षित रहेगी, यह तो एक तरह से तानाशाही होगी कि आपके खिलाफ केस चल रहें है फिर भी आप गद्दी पर बैठना चाहते हैं। आइये जानते हैं ऐसे ही कुछ नेताओं के बारे में जिनके खिलाफ संगीन आरोप होते हुए भी चुनाव लड़ रहें हैं।

सबसे पहले इस लिस्ट में नाम आता है भाजपा के सांसद साक्षी महाराज का। वैसे तो साक्षी महाराज अपने आप को संत कहते हैं लेकिन उनके कारनामे संत वाले हैं नहीं। इनके खिलाफ 34 आपराधिक मुकदमें चल रहें हैं। साक्षी महाराज बलात्कार के आरोप में तिहाड़ जेल में भी एक महीना बिताना चुके हैं। इसके अलावा दस साल पहले उनके खिलाफ उनके ही आश्रम की एक शिष्या ने आरोप लगाया था कि साक्षी महाराज ने उसका बलात्कार किया था। 2019 के लोकसभा चुनाव में साक्षी महाराज उन्नाव से सपा-बसपा गठबंधन के प्रत्याशी अरुण शंकर शुक्ला के खिलाफ लड़ रहें हैं।

नेशनल इलेक्शन वॉच एंड एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) ने 1279 उम्मीदवारों में से 1266 के स्व-शपथ पत्रों का विश्लेषण किया है, जो लोकसभा चुनाव में 1266 उम्मीदवारों में से 213 (17%) उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले घोषित कर चुके हैं।

सवाल ये है कि ऐसे नेताओं को चुनाव ही क्यों लड़ने दिया जाता है। बाकी नेता जो भी है अपनी सभाओं के दौरान उलूल जुलूल बयान देते रहते हैं। इसीलिए यह जरूरी है कि साफ़ सुथरी राजनीति के लिए साफ़ सुथरे चरित्र का नेता होना चाहिए।

x

Check Also

गेस्टहाउस कांड के 24 साल बाद आज पहली बार मायावती-मुलायम होंगे एक मंच पर

🔊 Listen to this यूपी की राजनीति में एक दूसरे के धर विरोधी रहे मायावती और मुलायम आज वर्षों पहले ...

error: Dont Copy !!